What is Dividend in Hindi | आपको Dividend कैसे प्राप्त होगा [2022*]

Reading Time: 7 minutes

What is Dividend in Hindi – जब भी आप किसी Stock या Share में Invest करते हैं, तो आपको दो तरह से लाभ मिल सकता है | पहला अपने स्टॉक के मूल्य में वृद्धि और दूसरा लाभांश। अगर आप भी शेयर बाजार के बारे में जानते हैं तो आपने Dividend का नाम तो सुना ही होगा |

यदि आप किसी Stock में निवेश करते हैं और आपको उस Stock से Dividend मिलता है, तो आपको Dividend Income प्राप्त करने में प्रसन्नता होनी चाहिए।

यदि आप Dividend के बारे में जानने के लिए उत्सुक हैं, तो आज के इस Article के माध्यम से मैं What is Dividend in Hindi समझाऊंगा, Dividend क्यों दिया जाता है, Dividend रिकॉर्ड तिथि क्या है और Dividend कैसे प्राप्त करें?

लाभांश क्या होता है ? – What is Dividend in Hindi

दोस्तों अगर हम Dividend meaning in Hindi की बात करें तो इसे हिंदी में लाभांश कहते हैं। लाभांश का अर्थ है लाभ का हिस्सा या लाभ का हिस्सा।

लाभांश वह है जो एक कंपनी अपने शुद्ध लाभ में से अपने शेयरधारकों को विभाजित करती है। कंपनी कंपनी में निवेश करने और उन्हें विश्वास दिलाने के लिए कंपनी के मुनाफे का कुछ हिस्सा अपने शेयरधारकों को इनाम के रूप में देती है।

किसी भी कंपनी द्वारा अर्जित लाभ से परिचालन व्यय, ब्याज और करों को घटाकर शुद्ध लाभ बना रहता है। इस तरह, सभी खर्चों में कटौती के बाद बचा हुआ लाभ, कंपनी अपने शेयरधारकों को लाभांश या लाभांश वितरित कर सकती है।

इसे भी पढ़ें – 2022 में Best Mutual Fund कैसे चुनें | 11 Tips to Select Mutual Fund

DIVIDEND देने का फैसला

यह ध्यान देने योग्य है कि Dividend का भुगतान करना है या नहीं, यह पूरी तरह से कंपनी के निदेशक मंडल पर निर्भर करता है, यदि निदेशक मंडल चाहता है, तभी कंपनी Dividend देने की घोषणा करती है,

Dividend का भुगतान करने का निर्णय कंपनी की वार्षिक आम बैठक (एजीएम) में निदेशक मंडल द्वारा किया जाता है।

ध्यान देने वाली बात यह है कि – ज्यादातर कंपनियां जो बाजार में नई हैं, या जो इस नीति का पालन करती हैं कि वे व्यवसाय में ही लाभ वापस रखकर व्यवसाय को और बढ़ा देंगी, ऐसी कंपनी बहुत कम लाभांश देती है, या करती है मत दो।

स्टॉक मार्केट में Dividend कितने प्रकार का होता है?

स्टॉक मार्केट में फाइनेंसियल ईयर रिजल्ट और Quarterly result पर डिविडेंड देने के अनुसार Dividend के दो प्रकार हैं –

  1. Interim Dividend (अंतरिम लाभांश)
  2. Final Dividend (अंतिम लाभांश)

1. Interim Dividend (अंतरिम लाभांश):जब कोई कंपनी अपने निवेशकों को अपने तिमाही परिणामों के साथ या वित्तीय वर्ष के अंत से पहले लाभांश का भुगतान करने का निर्णय लेती है, तो इसे अंतरिम लाभांश कहा जाता है।

2. Final Dividend (अंतिम लाभांश): अंतरिम लाभांश के विपरीत , जब कोई कंपनी financial year खत्म होने पर फाइनल रिजल्ट के बाद डिविडेंड देने का फैसला लेती है उसे Final Dividend (अंतिम लाभांश) कहते हैं।

Dividend कैसे दिया जाता हैं?

शेयरधारकों को उनके द्वारा रखे गए शेयरों के आधार पर लाभांश दिया जाता है। प्रति शेयर लाभांश की राशि घोषित की जाती है, जिसके पास शेयरों की संख्या होगी उसे लाभांश मिलेगा।

मान लीजिए SBI बैंक ने ₹1 प्रति शेयर के लाभांश की घोषणा की। अगर आपके पास एसबीआई बैंक में कुल 1,000 शेयर हैं, तो आपको ₹1 × 1,000 = ₹1,000 का कुल लाभांश मिलेगा।

कंपनी Dividend क्यों देती हैं

आपने ऊपर लाभांश का अर्थ जान लिया है, अब बात आती है कि कोई कंपनी लाभांश क्यों देती है?

यदि कोई कंपनी किसी वित्तीय वर्ष (F/Y) में शुद्ध लाभ कमाती है, तो कंपनी अपने शेयरधारकों को लाभांश वितरित कर सकती है। अगर कंपनी को लाभांश देना होता है तो कंपनी इसकी एजीएम में घोषणा करती है।

यदि कंपनी का व्यवसाय ठीक से स्थापित हो गया है और उन्हें आगे व्यापार विस्तार के लिए अतिरिक्त धन की आवश्यकता नहीं है, तो प्रबंधन शेयरधारकों को लाभ में से लाभांश वितरित कर सकता है।

लाभांश देना या न देना पूरी तरह से प्रबंधन का निर्णय है। वे चाहें तो मुनाफा कमाने के बाद भी लाभांश न देकर उस पैसे का इस्तेमाल किसी और काम में कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें –  बॉन्ड क्या होते हैं | Bonds में कैसे निवेश करें 2022

DIVIDEND के फायदे

डिविडेंड के कुछ प्रमुख फायदे इस प्रकार है

  • Dividend टैक्स फ्री इनकम है, इसलिए अगर आपको किसी Stock/Share/Mutual Fund पर Dividend मिलता है, तो Dividend पर कोई Tax नहीं लगता है |
  • Dividend पूरी तरह से निष्क्रिय आय है, और एक संतुलित निवेश Portfolio में Dividend आय भी शामिल है।
  • बाजार में किसी कंपनी के Dividend पर उसके Share की कीमत में कोई अंतर नहीं होता है, अगर कंपनी Dividend देना चाहती है, तो वह Share के अंकित मूल्य पर भुगतान करती है |
  • लाभांश एक निश्चित आय की तरह है, बड़ी स्थापित और वर्षों पुरानी कंपनी अक्सर निश्चित समय पर लाभांश देती है।

क्या loss making कंपनी डिविडेंड दे सकती हैं?

ज्यादातर मामलों में लाभ कमाने वाली कंपनियां लाभांश का भुगतान करती हैं। यदि किसी कंपनी को वित्तीय वर्ष में घाटा हुआ है, हालांकि उनके पास पर्याप्त नकदी भंडार पड़ा हुआ है, तो कंपनी अपने नकद भंडार से लाभांश का भुगतान कर सकती है।

Dividend को कैसे Calculate करते हैं ? Dividend Calculation

लाभांश क्या होता है, लाभांश कितने प्रकार का होता है, अब आप जान ही गए हैं कि लाभांश की गणना कैसे की जाती है। लाभांश हमेशा कंपनी के शेयर के अंकित मूल्य पर ही दिया जाता है, इसका शेयर की कीमत से कोई लेना-देना नहीं है।

जिस तरह 50,100 के नोट पर उनका मूल्य लिखा होता है, उसी तरह अंकित मूल्य को एक शेयर का निश्चित मूल्य कहा जाता है जो कभी नहीं बदलता है। आइए अब जानते हैं कि लाभांश गणना कैसे की जाती है –

मान लीजिए किसी कंपनी A का शेयर मूल्य 300 रुपये है और उसका अंकित मूल्य 10 रुपये है। कंपनी ने उस वर्ष कंपनी के अंकित मूल्य पर 200% लाभांश का भुगतान करने का निर्णय लिया।

अब 10 रुपये प्रति शेयर अंकित मूल्य के हिसाब से शेयरधारक को 200% यानी 20 रुपये प्रति शेयर का लाभांश दिया जाएगा। ध्यान दें कि यहां कंपनी के बाजार हिस्सेदारी की कीमत का इससे कोई लेना-देना नहीं है।

क्या सभी कंपनियां अपने शेयर धारकों को Dividend देती हैं ?

जरूरी नहीं है कि शेयर बाजार की सभी कंपनियां डिविडेंड दें। केवल वही कंपनियां लाभांश देने पर विचार करती हैं, जिन्होंने पिछले वर्ष की तुलना में चालू वर्ष में अपने व्यवसाय में अधिक लाभ कमाया है।

कंपनियों द्वारा लाभांश देने या न देने का निर्णय उस कंपनी के निदेशक मंडल द्वारा वार्षिक आम बैठक (एजीएम) में एक निश्चित बैठक में विचार-विमर्श करने के बाद लिया जाता है।

DIVIDEND YIELD क्या होता है ?

डिविडेंड यील्ड एक वित्तीय अनुपात है जो किसी स्टॉक की लाभांश अर्जन क्षमता को दर्शाता है,

और इस प्रकार लाभांश उपज निवेशक को लाभांश अर्जित करने के लिए स्टॉक की क्षमता और उसके शेयर के बाजार मूल्य के बीच संबंध को दर्शाता है,

जैसे –

मान लीजिए अगर इन्फोसिस कंपनी जिसका शेयर मूल्य 5 रुपये है और बाजार मूल्य 800 रुपये प्रति शेयर है,

और इन्फोसिस ने 200% लाभांश की घोषणा की,

इसका मतलब होगा इंफोसिस से लाभांश, शेयर के अंकित मूल्य का 200% = 10 रुपये,

और अगर डिविडेंड यील्ड की बात करें तो हमें शेयर की डिविडेंड वैल्यू को मार्केट वैल्यू से भाग देना होता है,

तरह से

इन्फोसिस के शेयर का लाभांश प्रतिफल होगा = (10/800)*100 = .0125 X 100 = 1.25%

और इस प्रकार इन्फोसिस की लाभांश उपज = 1.25%

Dividend से जुड़ी महत्वपूर्ण तारीख | Dividend Declaration Date 

जब कोई कंपनी लाभांश की घोषणा करती है, तो लाभांश का भुगतान तुरंत नहीं किया जाता है, लेकिन लाभांश की घोषणा और लाभांश के भुगतान के बीच चार प्रमुख तिथियां होती हैं, और लाभांश का भुगतान अंतिम तिथि पर ही होता है,

ये चार Date इस प्रकार है –

  1. Dividend declaration date- यह वो Date होता है, जिस दिन कंपनी डिविडेंड देने की घोषणा अपने शेयर होल्डर को करती है |
  2. Last Cum-dividend date/.Ex-Dividend date – यह वो Date है, जो Last date होता है, इस Date के बाद अगर किसी ने स्टॉक या शेयर ख़रीदा है, तो उसे डिविडेंड नहीं मिलेगा, अगर आपको किसी स्टॉक का डिविडेंड पाना है, तो आपको इस Last Cum-dividend date से पहले उस स्टॉक को खरीदना होग |
  3. Date of record या Record date – यह वो Date होता है, जिस दिन कंपनी अपने रिकॉर्ड बुक्स में ये देखती है, अभी उसके शेयर किन किन लोगो के पास है, इस Date पर कंपनी के रिकॉर्ड बुक में जिन लोगो का नाम रहता है, वही शेयर का डिविडेंड पाने के हक़दार होते है |
  4. Date of डिविडेंड Payment. – यह वो Date होता है, जब कंपनी द्वारा वास्तव में डिविडेंड का पेमेंट किया जाता है |

डिविडेंड देने वाली कंपनी कैसे चेक करे

आप इसे इन्टरनेट पर सर्च करके या कंपनी की वेबसाइट या फिर MONEY CONTROL की वेबसाइट पर नीचे दिए गए लिंक से पर जाकर डिविडेंड चेक कर सकते है –

Dividend Yield क्या होता है? What is Dividend Yield 

Dividend Yield एक फाइनेंसियल रेश्यो होता हैं जो किसी स्टॉक की डिविडेंड देने क्षमता को दर्शाता हैं।

कहने का मतलब हैं अगर आप किसी स्टॉक में निवेश कर रहे हो तो आपको उस स्टॉक की मार्केट प्राइस पर साल भर में कितनी वैल्यू प्राप्त हो रही हैं।

Dividend Yield = Annual Dividends per share ÷  Current Market Price

यदि IRCTC शेयर की फेयर वैल्यू ₹10 हैं और कंपनी ने 100% डिविडेंड की घोषणा की। IRCTC की मार्केट प्राइस ₹100 हैं।

इसमें प्रति शेयर मिलने वाले डिविडेंड की राशि होगी – 10 × 100% = ₹10

यहाँ IRCTC का Dividend Yield होगा –     ( 10 ÷ 1500 ) × 100 =  0.66%

डिविडेंड यील्ड शेयर प्राइस के आधार पर लगातार घटता-बढ़ता रहता हैं।

आपको Dividend कैसे प्राप्त होगा?

कई नए निवेशक भ्रमित हो जाते हैं कि लाभांश उनके ट्रेडिंग खाते की शेष राशि में आते हैं।

लाभांश हमेशा आपके डीमैट खाते से जुड़े बैंक खाते में जमा किया जाता है। अगर आपका डीमैट खाता UPSTOX में है और आपका डीमैट खाता SBI बैंक से जुड़ा हुआ है तो आपको अपने SBI बैंक खाते में लाभांश मिलेगा।

Conclusion – What is Dividend in Hindi

दोस्तों, नियमित आय प्राप्त करने के लिए लाभांश एक अच्छा तरीका है। इसलिए अपने पोर्टफोलियो को संतुलित रखने के लिए हमेशा कुछ अच्छे लाभांश देने वाले स्टॉक रखें।

मुझे उम्मीद है कि आपको लाभांश के बारे में यह जानकारी पसंद आई होगी। आज आप जानते हैं कि डिविडेंड, What is dividend in Hindi और इससे जुड़े हर सवाल का जवाब।

अगर आपको जानकारी मिली हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

FAQ – (What is Dividend in Hindi)

Q.1 – Dividend Per Share क्या होता हैं – What is DPS?

Answer – DPS यह दर्शाता हैं की कंपनी ने प्रति शेयर कितना डिविडेंड देने का वादा किया हैं।

DPS = Total Dividend ÷ Total Number of Shares

Q.2 – डिविडेंड के प्रकार – Types of Dividend

Answer – कंपनी कई तरीकों से अपने शेयर होल्डर्स को डिविडेंड देकर रिवॉर्ड कर सकती हैं। जैसे –

  1. Cash Dividend
  2. Stock Dividend
  3. Property Dividend
  4. Scrip Dividend
  5. Liquidating Dividend

यह भी पढ़ें – 

मेरा नाम विशाल कुशवाहा है और मैं Uttar Pradesh के प्रयागराज शहर मे रहता हु।अभी मै Graducation last year (B.SC.) का Student हूँ | मुझे Share Market, finance, Cryptocurrency, Investment, और Digital Marketing के बारे में पढ़ने और लिखने का शौक है।मै इस Blog के माध्यम से Readers को Share Market और finance और निवेश की जानकारी हिंदी भाषा में देना चाहता हूँ ।

Leave a Comment