Intraday Trading क्या है? 2022 में Intraday Trading कैसे करें?

Reading Time: 8 minutes

Intraday Trading Kya hai – इंट्राडे ट्रेडिंग रोजाना ट्रेडिंग करके पैसा कमाने का सबसे अच्छा साधन है और इसकी मदद से लोग शेयर बाजार से रोजाना हजारों रुपये कमाते हैं।

आप भी शेयर बाजार से रोजाना इंट्राडे ट्रेडिंग करके पैसा कमा सकते हैं लेकिन आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में सही जानकारी होनी चाहिए।

क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग सबसे जोखिम भरा काम है और अगर आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में सही जानकारी नहीं है तो आपको ट्रेडिंग में नुकसान हो सकता है।

तो चलिए इंट्रा डे ट्रेडिंग के बारे में जानते है Intraday Trading Kya hai?

Table of Content

Intraday Trading Kya Hai?

इंट्राडे ट्रेडिंग में किसी भी कंपनी के शेयर एक ही ट्रेडिंग दिन के लिए खरीदे और बेचे जाते हैं। इसलिए इसे डे ट्रेडिंग भी कहा जाता है। इंट्राडे ट्रेडर्स या डे ट्रेडर्स एक दिन में शेयर की कीमतों में उतार-चढ़ाव के कारण शेयर खरीद और बेचकर लाभ कमाने की कोशिश करते हैं।

अगर सरल शब्दों में समझाया जाए तो इंट्राडे ट्रेडिंग का मतलब है इंट्राडे ट्रेडर्स बाजार खुलने के बाद शेयर खरीदते हैं और बाजार बंद होने से ठीक पहले उन्हें बेच देते हैं। यदि आप अपने शेयर नहीं बेचते हैं, तो आपका ब्रोकर स्वतः ही पोजीशन को चुकता कर देगा। दूसरी ओर, यदि आपने एनआरएमएल पर शेयर खरीदे हैं, तो आपका ब्रोकर स्थिति को डिलीवरी ट्रेड में बदल देगा।

उदाहरण के लिए मान लीजिए बाजार खुलने के बाद आप किसी कंपनी के 500 शेयर 1000 रुपये में खरीदते हैं। अगर आपको लगता है कि यह शेयर आज 1010 पर जाएगा।

जैसे ही स्टॉक 1010 रुपये तक गया और आपने स्टॉक बेच दिया। तो इस मामले में आपको 5000 रुपये का लाभ होगा। इसी तरह दिन के व्यापारी कुछ घंटों में अच्छा मुनाफा कमाते हैं। इसे इंट्राडे ट्रेडिंग या डे ट्रेडिंग कहते हैं।

2022 में Intraday Trading का सच – ⚠⚠

केवल 10% लोग इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसा कमाते हैं, जबकि 90% लोग अपना पैसा खो देते हैं।

अगर आप लॉन्ग टर्म विजन, धैर्य, रिस्क मैनेजमेंट के साथ अगले 6 महीने तक इंट्राडे ट्रेडिंग में टिके नहीं रह पाते हैं तो गलती से भी इसमें एंट्री नहीं करनी चाहिए।

क्योंकि यह बहुत जोखिम भरा है और अगर आप कम पूंजी, कम सटीकता और कम ज्ञान के साथ इंट्राडे ट्रेडिंग में जाते हैं तो 95% से अधिक संभावना है कि आपका पैसा खो जाएगा।

इसलिए सबसे पहले इसके बारे में जितना हो सके सीखने और समझने की कोशिश करें।

क्या इंट्राडे ट्रेडिंग में पहले खरीदना जरूरी है?

इंट्राडे ट्रेडिंग में पहले शेयर खरीदना बिल्कुल भी जरूरी नहीं है। आप चाहें तो पहले शेयर बेच सकते हैं और बाद में खरीद सकते हैं, इसे शेयर बाजार में शॉर्ट सेलिंग कहा जाता है।

अगर आपको लगता है कि आज किसी शेयर में गिरावट आने वाली है तो आप उसे पहले ऊंचे भाव पर बेच सकते हैं। उसके बाद, जब शेयर की कीमत नीचे जाती है, तो आप इसे वापस खरीद सकते हैं। इस प्रकार आपका सौदा चुकता हो जाता है और आप इससे लाभ कमा सकते हैं। शॉर्ट सेलिंग के बारे में विस्तार से जानने के लिए आप इस लेख को पढ़ सकते हैं।

शॉर्ट सेलिंग क्या है?

शॉर्ट सेलिंग में आपको बहुत सावधानी बरतनी पड़ती है अगर आपने किसी शेयर को शॉर्ट किया है और वह शेयर अपर सर्किट में लॉक हो जाता है तो आपके लिए उस शेयर को वापस खरीदना मुश्किल हो जाता है। इसमें आपको काफी नुकसान होता है और भारी जुर्माना भरना पड़ता है।

2022 में Intraday Trading के फायदे क्या है?

इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे जानना बहुत जरूरी है। क्योंकि ये फायदे दिन के कारोबार को अन्य ट्रेडिंग से अलग करते हैं।

1. इंट्राडे ट्रेडिंग में निवेश या डिलीवरी की तुलना में कम पूंजी की आवश्यकता होती है।

2. इंट्राडे ट्रेडिंग में कम समय में लाभ कमाएं। आपको लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

3. अगर शेयर बाजार में ज्यादा उतार-चढ़ाव है तो आप ज्यादा कमा सकते हैं।

4. डे ट्रेडिंग में आपको अधिक लाभ मिलता है। लेकिन लीवरेज सुविधा ब्रोकर से ब्रोकर में भिन्न होती है।

5. डे ट्रेडिंग में रातोंरात कोई जोखिम नहीं होता है। वहीं, होल्डिंग और लॉन्ग टर्म निवेश में रातोंरात जोखिम होता है।

6. इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको शॉर्ट सेलिंग की सुविधा भी मिलती है। इसका मतलब है कि किसी स्टॉक को पहले बेचा जा सकता है। उसके बाद आप कम रेट पर खरीदारी कर सकते हैं।

2022 में Intraday Trading के नुकसान क्या है?

क्या आप डे ट्रेडिंग के फायदे जानते हैं? इसे देखकर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए तैयार हो गए होंगे। आप सोच रहे होंगे कि इंट्राडे ट्रेडिंग बहुत ही आसान है।

लेकिन मैं आपको बता दूं कि इंट्राडे ट्रेडिंग के अगर फायदे हैं तो इसके कुछ नुकसान भी हैं। जिन्हें आपको जानना जरूरी है। तो आइए जानते हैं इसके नुकसान के बारे में।

  1. दिन के कारोबार में, समय की अवधि में लाभ कमाया जाता है। वहीं दूसरी ओर कुछ समय में धन की हानि भी होती है।
  2. दिन के कारोबार में आपको कोई निश्चित रिटर्न नहीं मिलता है। यानी यहां कोई फिक्स सैलरी नहीं है जिस पर आप निर्भर रह सकें।
  3. उत्तोलन, यदि आपका लाभ गुणा करने के लिए मददगार साबित होता है। तो वहीं दूसरी ओर आपका नुकसान भी कई गुना बढ़ जाता है।
  4. आपके लिए इंट्राडे ट्रेड के लिए अनुशासन रखना जरूरी है। यदि आप अनुशासित नहीं हैं तो आप बहुत नुकसान कर सकते हैं।
  5. इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको मनोवैज्ञानिक रूप से मजबूत होना होगा। जो इंट्राडे ट्रेडर्स के लिए सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है।

2022 में Intraday Trading किनमें होती है?

अब सवाल आता है की Intraday Trading में क्या-क्या ट्रेड किया जा सकता है|

सामान्यतौर पर इसमें 3 चीजे आती है –

1) Equity :

इक्विटी का मतलब = शेयर या शेयर

इक्विटी मुख्य रूप से कंपनी के हिस्से का प्रतिनिधित्व करती है।

आप किसी भी लिस्टेड कंपनी के शेयर आसानी से खरीद और बेच सकते हैं।

उदाहरण के लिए, यदि किसी कंपनी के पास कुल 1 लाख शेयर हैं और आप उनमें से 10,000 शेयर खरीदते हैं, तो आप उस कंपनी के 10% के शेयरधारक या मालिक बन जाते हैं।

2) Commodity :

यहाँ Commodity का अर्थ उन मूल्यवान वस्तुओं से है जो सीमित मात्रा में ही उपलब्ध होती हैं, जैसे-

  • धातु
  • सोना
  • चांदी
  • तेल
  • कृषि उत्पाद और
  • अन्य बातें।

साथ ही अगर आप चाहे तो आज की डेट में डिजिटल गोल्ड में भी निवेश कर सकते है|

3) Currency :

आप कई देशों की करेंसी (मुद्राओं) पर भी ट्रेडिंग कर सकते है|

इसके आलावा आप Rules & Regulations को फोल्लो करते हुए Cryptocurrency जैसे – Bitcoin, Ethereum, XRP, Tether आदि में भी पैसा लगा सकते है|

इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाएं ?

एक नए ट्रेडर के रूप में आप इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसे कमाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन कर सकते हैं –

[1] डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलें

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपको एक डीमैट खाते की आवश्यकता होती है। आप निम्न लिंक पर जाकर अपस्टॉक्स में अपना डीमैट खाता खोल सकते हैं –

डीमैट खाता ऑनलाइन खोलें

[2] ट्रेडिंग सीखें

बिना सोचे समझे और सही जानकारी के अभाव में किए गए व्यापार में आपको भारी नुकसान हो सकता है। इसलिए आपको इंट्राडे ट्रेडिंग करने से पहले इसे सीख लेना चाहिए।

इंट्राडे ट्रेडिंग सीखने के लिए आपको पहले समय देना होगा।

आपको ट्रेंड्स, चार्ट्स, टेक्निकल एनालिसिस, ट्रेडिंग स्ट्रैटेजी, शेयर कैसे खरीदें और बेचें और अच्छे इंट्राडे स्टॉक्स आदि पर काम करना होगा।

[3] प्रारंभ में परीक्षण के आधार पर व्यापार

समय के साथ, आप धीरे-धीरे ट्रेडिंग के गुण सीखेंगे। लेकिन आप एक नए व्यापारी के रूप में छोटी मात्रा में व्यापार कर सकते हैं। आपकी सटीकता बढ़ने पर आप अपने व्यापार की मात्रा बढ़ा सकते हैं।

इनके अलावा, आप नीचे दिए गए कुछ सुझावों का उपयोग करके अपने इंट्राडे ट्रेडिंग लाभ को बढ़ा सकते हैं –

  • अपने लक्ष्यों के अनुसार व्यापार करें
  • ठीक से शोध करें
  • बाजार की खबरों से अपडेट रहें
  • स्टॉप लॉस का उपयोग करें
  • समय का ध्यान रखें

2022 में Intraday Trading कैसे शुरू करे?

डे ट्रेडिंग करने के लिए, आपको ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म (जैसे ज़ेरोधा, अपस्टॉक, एंजेल ब्रोकिंग आदि) पर अपना डीमैट खाता खोलना होगा। आप डीमैट अकाउंट के बिना कोई ट्रेडिंग नहीं कर सकते। इसलिए शेयर बाजार में ट्रेडिंग के लिए डीमैट अकाउंट होना जरूरी है।

आपको बता दें कि इंट्राडे ट्रेडिंग में काफी रिस्क होता है। इसलिए डे ट्रेडिंग करने से पहले आपके पास कुछ खास जानकारी होनी चाहिए। आइए फिर से जानें।

  1. इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपके द्वारा चुने गए शेयर लिक्विड होने चाहिए। इसका मतलब है कि आप जो स्टॉक खरीद रहे हैं, उसमें ज्यादा वॉल्यूम होना चाहिए। अगर किसी स्टॉक में वॉल्यूम कम है तो इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए उस स्टॉक से दूर रहना चाहिए।
  2. Intraday Trading करने के लिए सिर्फ 2 – 3 तीन अच्छे शेयरों का चुनाव करें।
  3. इंट्राडे ट्रेडिंग में शेयर की चाल बहुत तेज होती है। इसलिए, ट्रेड करने से पहले, एंट्री प्राइस, टारगेट और सबसे महत्वपूर्ण स्टॉप लॉस पहले से तय कर लें। जिसे आप सही समय पर बाजार से बाहर निकाल लेते हैं।
  4. शेयर चुनने से पहले बाजार का रुख देखें। उसके बाद ही इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए शेयरों का चुनाव करें।
  5. इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए इंडेक्स या सेक्टर के साथ चलने वाले शेयरों को चुनना ज्यादा उपयुक्त माना जाता है।
  6.  सबसे महत्वपूर्ण कि share market risky होता है इसलिए उतने पैसे के ट्रेड ले जितना आपको loose करने में कोई दिक्कत ना हो।

इंट्राडे ट्रेडिंग में मार्जिन क्या है?

मार्जिन शब्द का प्रयोग इंट्राडे ट्रेडिंग में भी किया जाता है। यदि आपके पास इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं है या आप अधिक शेयरों में व्यापार करना चाहते हैं तो आप अपने स्टॉकब्रोकर से मार्जिन के साथ व्यापार कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए आपके ट्रेडिंग खाते में ₹10,000 हैं। आप इंट्राडे के लिए एक शेयर खरीदते हैं जिसकी कीमत एक शेयर ₹100 है। इस तरह आप उस शेयर के सिर्फ 100 शेयर ही खरीद सकते हैं।

लेकिन अगर आपका स्टॉक ब्रोकर आपको 5X का मार्जिन प्रदान करता है तो आप ₹10,000 X 5 = ₹50,000 का ट्रेड कर सकते हैं। इस तरह आप 100 के बजाय 500 शेयरों में ट्रेड कर सकते हैं।

इस तरह आप मार्जिन की मदद से अपने प्रॉफिट को बढ़ा सकते हैं।

लिमिट ऑर्डर क्या है?

अगर आप किसी शेयर को एक निश्चित कीमत पर खरीदना या बेचना चाहते हैं, तो आप लिमिट ऑर्डर के जरिए ऐसा कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए आप आईआरसीटीसी के शेयर ₹800 में खरीदना चाहते हैं। जबकि इस स्टॉक का वर्तमान बाजार मूल्य ₹810 है। इस स्थिति में, आप लिमिट ऑर्डर का उपयोग करके खरीद मूल्य को ₹800 पर सेट कर सकते हैं। जैसे ही कोई विक्रेता इस कीमत पर आईआरसीटीसी के शेयर बेचने के लिए तैयार होता है, तो आपका ऑर्डर निष्पादित हो जाता है।

मार्केट ऑर्डर क्या है?

लिमिट ऑर्डर में, आप तय करते हैं कि आप किस कीमत पर शेयर खरीदना या बेचना चाहते हैं। लेकिन मार्केट ऑर्डर में, आप अपना ऑर्डर उस शेयर की मौजूदा कीमत पर देते हैं जो चल रहा है।

इसमें आपका ऑर्डर मौजूदा बाजार भाव पर निष्पादित होता है।

स्टॉप लॉस क्या है?

इंट्राडे ट्रेडिंग काफी जोखिम भरा माना जाता है, इसमें आप जितना मुनाफा कमा सकते हैं, नुकसान की भी संभावना है। इसलिए यहां स्टॉप लॉस का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी हो जाता है। यदि आप स्टॉप लॉस का उपयोग नहीं करते हैं, तो आपकी पूरी पूंजी भी नष्ट हो सकती है। स्टॉप लॉस की मदद से, आप तय करते हैं कि आप केवल एक निश्चित राशि तक ही खो देंगे, उसके नीचे आपका ऑर्डर निष्पादित हो जाएगा।

उदाहरण के लिए, आपके पास कोल इंडिया के 100 शेयर हैं जिनका वर्तमान बाजार मूल्य ₹150 है। आपने यह रणनीति बनाई या अपने शोध के आधार पर क्या आपको लगता है कि यह स्टॉक आज 2% ऊपर जाएगा। लेकिन यह शेयर 2% ऊपर जाने के बजाय 3% गिर जाता है।

इस मामले में आप अपने स्टॉप लॉस का उपयोग अधिक नुकसान से बचने के लिए करते हैं और आप अपना स्टॉप लॉस ₹145 पर सेट करते हैं। अगर कोल इंडिया का शेयर इस कीमत पर पहुंच जाता है तो आपके शेयर अपने आप बिक जाएंगे। यह आपके नुकसान को 3% तक सीमित कर देगा। इसलिए इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है।

ये भी पढ़े – 

FAQ’s – (Intraday Trading Kya hai)

Q. 1 – इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करते हैं?
Answer – Intraday Trading Tips & Technics –
  1. हर महीने 5 हजार की कैपिटल Intraday Trading में लगायें|
  2. एक ट्रेड में मैक्सिमम कैपिटल का 3% ही होना चाहिये|
  3. 6% का Monthly Profit सेट करते है|
  4. Profit Loss Ratio को 2:1 पर रखे| और
  5. सारा प्रॉफिट वापस ट्रेडिंग में लगा दे|
Q. 2 – ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते हैं?
Answer – मै आपको बता दू स्टॉक मार्केट में चार प्रकार की ट्रेडिंग होती है,
  1. Intraday trading.
  2. Swing trading.
  3. Short term trading.
  4. Long term trading.
Q. 3 – इंट्राडे और डिलीवरी में क्या अंतर है?
Answer – इंट्राडे ट्रेडिंग में सिक्योरिटीज को बहुत कम समय जैसे कि केवल एक दिन के लिए रखा जाता है, जबकि डिलीवरी ट्रेडिंग में सिक्योरिटीज को बहुत अधिक समय तक के लिए रखा जाता है। 
Post Tag: Intraday Trading kya hai, Intraday Trading kya hai in hindi, Intraday Trading kya hai hindi
Vishal Kushwaha
Vishal Kushwaha
Digital Marketing Expert | Website | + posts

मेरा नाम विशाल कुशवाहा है और मैं Uttar Pradesh के प्रयागराज शहर मे रहता हु।अभी मै Graducation last year (B.SC.) का Student हूँ | मुझे Share Market, finance, Cryptocurrency, Investment, और Digital Marketing के बारे में पढ़ने और लिखने का शौक है।मै इस Blog के माध्यम से Readers को Share Market और finance और निवेश की जानकारी हिंदी भाषा में देना चाहता हूँ ।

Leave a Comment